वार्तालाप 01

1: भाई एकेडमी अवार्ड्स देखा?
2: ये कौन सा अवार्ड है?
1: अबे ऑस्कर की बात कर रहा हूँ।
2: तो ऐसा बोल न। नहीं देखा, उसमे साला बहुत racism होता है।
1: हैं! ऐसा कैसे?
2: अबे किसी अफ्रीकन-अमेरिकन एक्टर को nominate नहीं किया, ये गोरे discriminate करते हैं।
1: भाई अब films जो अच्छी रहेगी उसी को न मिलेगा, इसमें गोरा काला थोड़े देखेगा।
2: वही तो issue है भाई। सारी films में lead role गोरों को ही मिलता है, racial diversity की कोई परवाह ही नहीं।
1: हम्म भाई, ये तो सही बोला। सब जगह का यही issue है। अपने यहाँ भी ऐसे ही हालात हैं।
2: क्या मतलब? अपने यहाँ ऐसा कहाँ है?
1: अरे..देख ले films में हमारे यहाँ वाली। कोई भी मूवी उठा ले, lower caste के नाम वाले characters नहीं मिलेंगे तुझे।
2: कर दी न बिहारी जातियो वाली बात! हर बात में तुझे जाति ही दिखता है? रविश का फैन है क्या? characters की जाति देखता है?
1: क्यों? ये diversity वाली बात नहीं है? ये कौन सा इंडिया दिखाते हैं फिल्मों में, जहाँ बस शर्मा, मल्होत्रा, चौहान वगैरह surname वाले लोग होते हैं?
2: अबे writer न लोगों की जात देख कर नहीं लिखते तेरी तरह।
1: वो देखते है या नहीं ये मैं नहीं कह सकता but अनजाने में ही सही ये नज़रअंदाज तो कर देते हैं लोग।
2: तो अब तुझे यहाँ भी reservation चाहिए?
1: भाई reservation की बात कहाँ से आ गयी इसमें? ये तो लोगों के सोच की बात है कि उनके दिमाग में बसने वाले भारत में सब तरह के लोग आते हैं या नहीं?
2: मतलब तू कहना क्या चाहता है?
1: मेरा मतलब है कि लोग जो discriminated तबका है हमारी सोसाइटी में उसके existence को consider ही नहीं करते, उनकी बात ही नहीं सुनना चाहते, उनको…
2: एक मिनट, एक मिनट! वो लोग discriminated हैं? साला reservation मिला है उनलोगो को। discrimination तो हम जनरल वालों के साथ होता है।
1: भाई मैं यहाँ social level पर होनेवाले भेदभाव की बात कर रहा हूँ। अच्छा चल reservation की ही बात कर, तो तुझे ये नहीं पता कि दलितों के साथ campus में भी discrimination होता है?
2: कहाँ होता है? मैंने तो नहीं देखा।
1: भाई तूने इंडिया के सारे campus देखे है क्या? हमारे premier institutes में 23 cases हुए सुसाइड के, उसमें से 22 दलित स्टूडेंट्स थे।
2: हाँ तो जाहिल लोगों को reservation दे के एडमिशन करा देंगे तो जब fail होंगे तो यही करेंगे न।
1: भाई सिर्फ दलित स्टूडेंट्स ही fail होते है क्या? तेरी खुद की तो बैक लगी है।
2: अबे वो लोग को माइनस मार्क्स पर admission दे देते हैं, CAT में तो कॉपी खाली छोड़ दो तो admission।
1: अरे वो handicapped वालों का कट-ऑफ था और ऐसा होता तो seats क्यों खाली रहते?
2: अबे तुझे कुछ नहीं पता। छोड़, सुट्टा पिला।
1: मैंने सिगरेट छोड़ दिया बे।
2: सही किया, बड़ी ख़राब चीज़ है। तू मत पीना, मुझे तो पिला।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s