वार्तालाप 03

1: कहाँ था बे इतने दिन? दिखा नहीं।
2: पहले अंदर तो आने दे बे…बस शहर में नहीं था। कल आया, आज सोचा कि देख लूँ ज़िंदा है या नहीं।
1: घंटा! ज़रूर कोई काम होगा तुझको।
2: कतई शक्की हो बे…हाँ वो गेम ऑफ़ थ्रोन्स के इस सीजन का 4th एपिसोड से चाहिए था।
1: आया न औकात पर, और कुछ?
2: अच्छा वो उड़ता पंजाब डाउनलोड कर लिया?
1: नहीं बे। उसको थिएटर में जा कर देखना है। सेंसर बोर्ड वालों ने बहुत गलत किया है।
2: हाँ मूवी का लीक होना तो गलत है, वो भी सेंसर बोर्ड वालों का लीक करना तो बिलकुल unacceptable है।
1: exactly. I hope की गवर्नमेंट इस बात पर तो कुछ एक्शन लेगी। सेंसर वालों का मूवी पायरेसी में envolve होना serious मैटर है। हम सबको ये मूवी थिएटर में ही देखनी चाहिए।
2: I don’t think so. सिर्फ इस वजह से मैं क्यों देखूं इसे थिएटर में?
1: What do you mean? डाउनलोड कर के देखना लीक करने वाले को बढ़ावा देना नहीं होगा?
2: See, ये सब जो कॉन्ट्रोवर्सी हुई है उसके पहले ही सोच लिया था कि ये मूवी देखने थिएटर नहीं जायेंगे। सो जो शनिवार को first cam देखते उसकी जगह एक डिसेंट प्रिंट देखने को मिल रहा है। I don’t think कि टोरेंट से डाउनलोड कर के देखना कोई गलत बात है, अगर ये नहीं करते तो जितनी फ़िल्में और टीवी सीरीज देखी है उसका आधा भी नहीं देख पाते हमलोग।
1: हाँ टोरेंट से डाउनलोड करना मेरी नज़र में भी गलत नहीं है बिलकुल भी। मगर यहाँ scenario अलग है। ये एक घटिया attempt है सेंसर बोर्ड का इस मूवी को sabotage करने के लिए। उड़ता पंजाब के मेकर्स ने सेंसरशिप के खिलाफ जो लड़ाई लड़ी है उसके लिए वो deserve करते हैं कि हम उनकी मूवी सिनेमा हॉल में जा कर देखें।
2: उन्होंने वाक़ई में एक बढ़िया काम किया है but not everyone can go out of their way to appreciate them, इसका मतलब ये नहीं की वो उनके साइड नहीं हैं। हाँ अनुराग कश्यप ने अपने फेसबुक पोस्ट में एक सही बात बोली है कि कम से कम इस मूवी को रिलीज़ के एक दिन बाद डाउनलोड कर के देखें, जैसा कि normally करते हैं। ये बात morally सही लगती है।
1: Ofcourse ये सही लगेगी तुमको क्योंकि it suits your preference। “चूतड़ों पर बैठे रहने से क्रांति नहीं आती” ये डायलॉग तो याद ही होगा।
2: मुझे नहीं लगता कि टिकट खरीद लेने से भी क्रांति आ जायेगी। solution तो है कि जिन्होंने लीक किया उनलोगो को punish किया जाये।
1: अब देखते हैं क्या होता है। अपन तो देखने जायेंगे।
2: मेरी टिकट का पैसा देगा तो मैं भी क्रांति ले आऊंगा।
1: मुंह में ले ले!

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s