ग़लतफ़हमी का इश्क़

कोलकाता, इस शहर को मैं प्यार का शहर मानता हूँ। अगर यहाँ रह के प्यार में ना पड़े तो मुमकिन है कि प्यार आपके बस का न हो। इसके पीछे की वजह ये कि ये शहर आपको बहुत से मौके देता है किसी को अपना बनाने के लिए और अपना बनाने के बाद आगे की…

वार्तालाप 02

1: Hey! आज इधर कैसे? 2: Hi.. बस ऐसे ही। और..क्या चल रहा है आजकल? 1: अरे बस वही बेरोजगारी। तू बता, सुना है तेरे लिए लड़का खोजा जा रहा है। 2: कहाँ से सुनते रहता है ये सब तू? 1: I have ears at right places. 2: घंटा! घर वाले बड़ा प्रेशर दे रहे…

चुम्मा की विकास यात्रा

किस्स, चुम्मा, चुम्बन, बोसा..ऐसे अनेक नाम से ये हरकत जानी जाती है। अगर इसको परिभाषा में बांधने जाएँ तो कह सकते हैं कि यह दो जनों के बीच होने वाली वह दैहिक क्रिया है जिससे प्रेम और वासना दोनों का पुरजोर प्रदर्शन किया जाता रहा है। यहाँ हम U सर्टिफिकेट वाले गालों पर के किस…

आशियां

संग अधसोये अधजागे,
एक दूजे की बाँहों में अलसाते
ख्वाबों का वो महल देखा था…..

बोर्ड एग्जाम

कुछ दिन पहले चल रहे बारहवीं के बोर्ड एग्जाम के एक सेंटर पर जाना हुआ तो 3 साल पहले बीते अपने एग्जाम की याद बरबस ही दिमाग में आ गयी। वो घबराहट भरा एग्जाम डेट का काउंटडाउन, एग्जामिनेशन हॉल की तरफ बढ़ते क़दमों के साथ दिल की धड़कनों बढ़ना और परीक्षा शुरू होने से पहले…

पहचान

माना हैं नाम अलग पर
पहचान एक ही
उस से मैं मुझ से वो है,
ढूँढोगे मुझे कभी तो
पहले उसको तुम पाओगे
उसका मुझसे मेरा उस से
ऐसा ही इक ये नाता है..